छत्तीसगढ़ स्वास्थ्य मंत्री ने दिया सौगात,जिले के दो लाख लोगो को मिलेगा लाभ।

चिरमिरी मनेंद्रगढ़ और जनकपुर में शुरू होंगे ब्लड बैंक। स्वास्थ्य मंत्री की पहल पर विभाग से मिला लाइसेंस।

जिले के 2 लाख से अधिक लोगों को मिलेगा लाभ।

चिरमिरी l स्वास्थ्य विभाग की तरफ से जिले के लोगों के लिए अच्छी खबर है। मरीजों को अब पास के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में ही ब्लड बैंक की सुविधा मिलेगी। स्वास्थ्य मंत्री श्याम बिहारी जायसवाल के प्रयास के बाद खाद्य एवं औषधि प्रसंस्करण विभाग के कंट्रोलर की तरफ से एमसीबी जिले के तीन सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों में ब्लड बैंक खोलने की औपचारिक घोषणा कर दी गई है। जल्द ही जिले के मनेंद्रगढ़, चिरमिरी और जनकपुर के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में ब्लड बैंक शुरू हो जाएंगे। इससे मरीजों को राहत मिलने के साथ-साथ उन्हें खून की कमी होने पर बाहर जिलों के चक्कर नहीं लगाना पड़ेगा। एमसीबी जिले के लगभग 200000 लोगों को इसका फायदा मिलेगा।


बता दें की एमसीबी जिले में लंबे समय से ब्लड बैंक की मांग की जा रही थी। अब तक लोगों को ब्लड डोनेशन और ब्लड चढ़ाने की सुविधा के लिए कोरिया जिले के शासकीय और निजी ब्लड बैंकों की ओर जाना पड़ता था। लंबे समय के इंतजार के बाद गुरुवार को फूड और ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन छत्तीसगढ़ के कंट्रोलर की ओर से ब्लड बैंकों को लाइसेंस दे दिया गया। लाइसेंस मिल जाने के बाद अब मरीजों को राहत मिलेगी। घायल व गंभीर मरीजों को समय पर ब्लड मिलने से लाभ मिल सकेगा। चिरमिरी के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में ब्लड बैंक बनाने की कवायद शुरू की गई थी। बीते वर्ष ब्लड बैंक बनकर तैयार हो गया था। स्टाफ की भी तैनाती कर दी गई लेकिन लाइसेंस नहीं मिलने के कारण ब्लड बैंक का संचालन शुरू नहीं हो पाया था। स्वास्थ्य विभाग की टीम ब्लड बैंक का निरीक्षण भी कर चुकी थी। गुरुवार को स्वास्थ्य विभाग ने सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र चिरमिरी मनेंद्रगढ़ और जनकपुर के ब्लड बैंक को लाइसेंस दिया है।


सेंट्रल हॉस्पिटल मनेंद्रगढ़ होगा मुख्य ब्लड सेंटर

फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन छत्तीसगढ़ के कार्यालय से बीएमओ को पत्र जारी किए गए हैं। जिसमें एमसीबी जिले के बड़ा बाजार चिरमिरी मनेंद्रगढ़ और जनकपुर के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में हुमन ब्लड को स्टोर करने के लिए स्वीकृति दी गई है। सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों के लिए सेंट्रल हॉस्पिटल एसईसीएल मनेंद्रगढ़ को मुख्य ब्लड सेंटर बनाया गया है।

इनके पास होंगे ब्लड सेंटर के प्रभार

सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र चिरमिरी के ब्लड बैंक के लिए मेडिकल ऑफिसर डॉक्टर जयंत कुमार और ब्लड सेंटर टेक्नीशियन बंटी लाल मनेंद्रगढ़ सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के ब्लड बैंक के लिए मेडिकल ऑफिसर डॉक्टर प्रकाश अग्रवाल और ब्लड सेंटर टेक्नीशियन सोमेंद्र मंडल और जनकपुर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के ब्लड बैंक के लिए मेडिकल ऑफिसर डॉ राजीव कुमार रमन और ब्लड सेंटर टेक्नीशियन रूकसार अंसारी को जिम्मेदारी दी गई है।

ब्लड स्टोरेज सेंटर के लिए निर्धारित है नियम

जिले के तीन ब्लॉक में ब्लड स्टोरेज सेंटर को 2 साल के लिए लाइसेंस जारी किया गया है। यह लाइसेंस अवधि 4 अप्रैल 2024 से लेकर 3 अप्रैल 2026 तक होगी। ब्लड सेंटर को लाइसेंस रिन्यूअल के लिए 3 महीने पहले ही आवेदन करना होगा। वही ब्लड सेंटर के टेक्निकल स्टाफ बदलने की स्थिति में उन्हें लाइसेंस अथॉरिटी को सूचना देनी होगी। ब्लड सेंटर में ब्लड डोनर और रिसीवर के सैंपल सहित अन्य जानकारियां भी सुरक्षित रखनी होगी। इसके अतिरिक्त कई और नियम भी ब्लड सेंटरों के लिए निर्धारित किए गए हैं।

घर के पास ही ब्लड बैंक की सुविधा उपलब्ध होगी स्वास्थ्य मंत्री

प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री और मनेंद्रगढ़ विधायक श्याम बिहारी जायसवाल ने बताया कि कार्यालय कंट्रोलर फूड एंड ड्रग्स एडमिनिस्ट्रेशन छत्तीसगढ़ द्वारा जनकपुर मनेंद्रगढ़ और चिरमिरी के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में ब्लड बैंक चलाने के लिए औषधिअधिनियम के अन्तर्गत आवेदन स्वीकृत कर लिया है। अब शहरी और ग्रामीण क्षेत्र में लोगों को घर के पास में ही उच्च स्तरीय ब्लड बैंक की सुविधा उपलब्ध हो सकेगी। ब्लाक स्तर पर ब्लड बैंक खुलने से सीधा फायदा मरीजों को होगा। सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों में ब्लड बैंक खोलने की स्वीकृति दी गई है। मरीजों को इसका लाभ मिलेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *